अपना नेता/उम्मीदवार कैसे चुनें – क्या आप सच में स्मार्ट वोटर हैं ?

किस उम्मीदवार को वोट दें और वोट के लिए उम्मीदवार या पार्टी के चयन के लिए  किन बातों का ध्यान रखें.

चुनाव मतदाताओं के सामने अच्छे विकल्प प्रस्तुत करता है, चाहे वो स्थानीय विधायक का चुनाव हो जो आपके क्षेत्र को प्रभावित करे या देश का मंत्री चुनने के लिए किया गया हो जो देश की दिशा बदल सके।  

यह उन मुद्दों पर विचार करने का समय है जिनके बारे में आप ध्यान रखते हैं और तय करते हैं कि आप किस उम्मीदवार का समर्थन करते हैं।

नीचे दिए गए प्रमुख बिंदुएँ जो आपको अपने उम्मीदवार चुनने में मदद करेंगे 

यह तय करें कि आप उम्मीदवार में क्या देख रहे है- 

कोई भी उम्मीदवार दो तरीके से परखा जा सकता है

  • वो आपके क्षेत्र के समस्यायों को कैसे देखता है और उसकी तत्परता उसके प्रति कितनी है 
  • उसका अनुभव और पहले की हुई गतिविधियों या सोच पर किये गए अनुकरण पर अपना विचार या मत क्या है 

अपने नेता चुनने के लिए जाती, धर्म, पार्टी इन सब से उठ कर  सोचना होगा , उस व्यक्ति का विचार कैसा है  , जिन पार्टी से जुड़ें हैं उसका सिद्धांत क्या है।  आप अपने नेता में कौन से गुण या विशेषता ढूंढते हैं। आप क्या तलाश करते हैं- बुद्धिमत्ता, ईमानदारी, संवाद करने की क्षमता या कुछ और?

उम्मीदवारों के बारे में पता करें

अखबार और समाचार के श्रोत से उम्मीदवार के बारे में जाने, सुने और  समझें।  उनकी योग्यता , व्यवसाय और सोच के बारे में जरूर जानें।  जाती , पार्टी, किसी के कहे पर न जाये।  

इन सबके बारें में सोचें  विचार करें।  जब आप कोई सामान मार्केट से खरीदते हैं तो बहुत पड़ताल करते हैं रिश्ते जोड़ते हैं उस समय भी क्योंकि ये आपके भविष्य से जुड़ा है।  अगर आप उम्मीदवार चयन के लिए नहीं सोचते तो आप अपना अपने परिजनों का भी  भविष्य उसी प्रकार दाव पर लगाते हैं।   

उम्मीदवारों के बारे में सामग्री इकट्ठा करें/ चुनाव प्रचार के बारे में पढ़ें

किसने चुनाव के लिए कैसे फंड लिया, उसके प्रचार का माध्यम क्या है?  दृष्टि या लक्ष्य क्या है ? उसे जानें।

पार्टी या प्रतिनिधि द्वारा किये गए प्रस्ताव या वादों की वास्तविक स्थिति क्या है उसे समझें ।

उदाहरण  के लिए मैँ अगर आपसे कहूं मैं अपने घर में १० लाख लोगो को नौकरी दूँगा या वेतन सबका दुगने कर दूँगा ये लुभावने है पर व्यावहारिक/वास्तविक  रूप से संभव नहीं है ।

उम्मीदवारों के मुद्दों का मूल्यांकन करें

उम्मीदवार का खुद से मूल्यांकन करें 

  • मुद्दों पर उम्मीदवार के विचार को परखें 
  • उम्मीदवार के नेतृत्व क्षमता को देखें 

उम्मीदवार कैसा है ? उसकी योग्यता क्या है ? आपके नज़रिये में उसका स्वभाव या पहचान क्या है ? उम्मीदवार आपके क्षेत्र के  समस्यायों से अवगत है या उसका विज़न क्या है !  कार्य की योजना,  रोड मैप क्या है?

किस उम्मीदवार की दावेदारी ज्यादा प्रभावी है या किसके कार्य से आप पहले प्रभावित या संतुष्ट हुये हैं !

विकृति फ़ैलाने वाले युक्तियों को पहचाने – लुभावने और वास्तविकता में अंतर पहचाने 

जीते हुये प्रतिनिधि पर प्रत्यारोप करना – 

कोई भी नेता दूसरे प्रतिनिधि को कितनी गालियां दें उसका दोष बताये पर अपने छोटे या बड़े स्तर पर कोई भी कार्य अपने क्षेत्र के लिए  हो। खुद की कोई पहचान न बताये इससे विपक्ष के नेता की ख़ामियाँ दिखती हैं पर ये उस उम्मीदवार की दावेदारी सिद्ध करती 

अफ़वाह वाली बातों से बचें 

आपने सुना होगा कोई भी उम्मीदवार अपने विपक्षी पर हमला करने के लिए कोई भी बेतुके बातों का सहारा लेते हैं उसके चरित्र पर सवाल उठाते हैं। उसे दोहरी चरित्र वाला कहते हैं पर हो सकता है उसकी सोच अनुक्रियाशील हो और उसका चरित्र भी।   

निराधार बातों , जुमलों  और वक्तव्यों को सुनें पर अपने सूझ बुझ से उसे मानें। कोई कह रहा, उसकी व्याख्या कर रहा  इसलिए सही है इस पर विश्वास न करें, न मानें।  

भड़काऊ भाषण और बयानों से प्रभावित न हों 

अपने मित्र सम्बन्धी पड़ोसी साथ काम करने वालों से सिर्फ नेता द्वारा दिए हुवे भड़काऊ भाषण या किसी मुद्दे पर उनसे झगड़ा या विवाद न करें. हर लोगो का सोच और विचार अलग हो सकता है ।

पार्टी कार्यकर्ताओं , संघ द्वारा अपराध- 

किसी भी पार्टी के समर्थक द्वारा लगाए हुवे दोष और बातों पर विचार करें फिर विश्वास करें।  किसी दूसरे व्यक्ति द्वारा कहे गये बातों से ज्यादा उम्मीदवार द्वारा प्रस्तुत किये गए रुपरेखा को समझें या मानें।

बेतुके नारों पर ध्यान न दें 

बेटिंग या जुमलों पर आकर्षित न होवें, जो समस्यायों को समझ रहे हैं उनकी बातों पर विश्वास करें, न की बेतुके नारों पर।

अन्य लोग उम्मीदवार को कैसे देख रहे उसे जानें 

  • जो लोग राजनीतिक गतिविधियों पर नजर रखते हैं उनका विचार जानें। 
  • किसी संस्था समुदाय या बुद्धिजीवी द्वारा समर्थन किये जाने वाले पार्टी सिद्धांत या उम्मीदवार को देखें 
  • उम्मीदवार द्वारा प्रचार पर किये जाने वाले खर्च या तरीकों पर ध्यान दें – कोई उम्मीदवार मतदाता खरीद रहा. किसी तरीके का गलत तरीका  प्रयोग कर रहा।  उनके प्रशंसकों या समर्थकों द्वारा जोर ज़बरदस्ती हो रहा या जो खर्च का तरीका या धन है वो है  वो सही है या गलत- क्यूंकि चुने जाने के बाद भी वो उन्हीं तरीकों का प्रयोग करेगा 

इन सबको एकत्र करें , 

  • किस उम्मीदवार की सोच या बातों पर आप ज्यादा भरोसा कर सकते हैं 
  • किसने सबसे निष्पक्ष और संतुलित प्रचार किया 
  • किस उम्मीदवार ने सबसे ज्यादा समस्यायों, मुद्दा और परिणाम पर चर्चा की या उनको जानकारी है 
  • किस उम्मीदवार में वो नेतृत्व क्षमता है जो आपके सोच के अनुसार उसमे है। 

आपकी सोच अगर इन सबके अनुसार साफ़ है तो अपना उम्मीदवार चुनें 

अपने दायित्व का निर्वाह करें – कुछ करें 

  • उस उम्मीदवार जिस पर आपको भरोसा है उसका सहयोग करें 
  • दूसरों से अपने चुने हुये उम्मीदवार के बारे में चर्चा करें 
  • पार्टी और उनके समर्थकों को अपनी सोच और उनके द्वारा उठाये गए मुद्दों पर बातें करें उन्हें पत्र लिखें, बताये। 
  • चुनाव प्रचार में स्वेक्षा पूर्वक यथा संभव सहयोग करें 
  • अगर आप पंजीकृत मतदाता हैं तो वोट जरूर करें 

सोचें, विचारें और वोट जरूर करें! समझदार मतदाता बनें, ये आपके अपने हित में है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *